चलिए आज इस लेख में हम लोग जानेंगे नेटवर्क क्या है नेटवर्क कितने प्रकार के होते हैं नेटवर्क का आविष्कार कब किया गया नेटवर्क से संबंधित सभी प्रकार के प्रश्नों का उत्तर इस लेख में मिलेंगे उम्मीद है कि इसलिए को शुरू से लेकर अंत तक अवश्य पड़ेंगे और किसी भी प्रकार के प्रश्नों के उत्तर जानने के लिए हमें कमेंट अवश्य करेंगे दरअसल नेटवर्क एक कंप्यूटर को दूसरी कंप्यूटर के साथ वायर के साथ या बिना वायर के किसी भी प्रकार से जोड़ने का कार्य करता है,

जिससे आप अपने कंप्यूटर में स्थित डाटा फाइल इत्यादि चीजें आसानी से भेज सकते हैं यह सब कार्य नेटवर्क के द्वारा संभव होता है तो चलिए आज नेटवर्क से रिलेटेड सभी प्रश्नों का उत्तर इसमें देंगे नेटवर्क के बारे में पूरी जानकारी यहां आपको मिलेंगे पहले के समय में जब इंटरनेट विस्तार नहीं हुआ था तो लोगों को सूचना आदान-प्रदान करने में बहुत समस्या होती थी लोग एक जगह से दूसरी जगह सूचना पहुंचाने में काफी समय लेते थे और उसका जवाब मिलने में भी बहुत ज्यादा वक्त लगता था,

लेकिन आजकल एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर को जुड़ने के लिए कुछ सेकंड लगते हैं चाहे वह कंप्यूटर एक स्थान पर मौजूद हो या फिर किसी दूसरे स्थान पर मौजूद हो कहीं से भी एक दूसरे के साथ कनेक्ट किया जा सकता है यदि इसे विस्तार पूर्वक समझना चाहते हैं शुरू से लेकर अंत तक पढ़ना होगा चलिए शुरू करते हैं नेटवर्क क्या है ये कितने प्रकार के होते हैं? 

Network क्या है इसे कैसे इस्तेमाल किया जाता है?

Network क्या है what is network in Hindi

दरअसल नेटवर्क इस्तेमाल दो या दो से अधिक कंप्यूटर हो एक साथ कनेक्ट करने के लिए वायर के साथ या वायर के बिना किसी भी माध्यम से जोड़ने का कार्य करता है इसके बाद आप अपने कंप्यूटर में स्थित दाता को आसानी से ट्रांसफर कर सकते हैं किसी भी प्रकार की कंप्यूटर को एक साथ कनेक्ट करने के लिए नेटवर्क जिम्मेदार होता है और कंप्यूटर के संसाधन को भी एक दूसरे के साथ कनेक्ट करके डाटा शेयर आसानी से कंप्यूटर नेटवर्क के द्वारा किया जा सकता है,

इन्हे भी पढ़े:- switch क्या है इसे कैसे इस्तेमाल किया जाता है?

इन्हें आसान शब्दों में समझने के लिए इसे ध्यानपूर्वक पढ़ें दो या दो से अधिक कंप्यूटर को किसी भी माध्यम से कनेक्ट करने के लिए नेटवर्क का इस्तेमाल किया जाता है और जब आपका नेटवर्क के द्वारा कंप्यूटर कनेक्ट कर दिया जाता है तो एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में आसानी से किसी भी प्रकार का डाटा शेयर कर सकते हैं चाहे आपका कंप्यूटर एक जगह स्थित हो या फिर दुनिया के किसी भी क्षेत्र में हो एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर में आसानी से नेटवर्क के द्वारा कनेक्ट किया जा सकता है अब आपको समझ में आ गया होगा कि नेटवर्क क्या होता है। 

Netwotk का इतिहास history of network in Hindi

दरअसल नेटवर्क का शुरुआत 1960 ईस्वी में किया गया था जिसका नाम एडवांस रिसर्च प्रोजेक्ट एजेंसी नेटवर्क था बहुत साल पहले इसका कार्य छोटे-मोटे कंप्यूटरों को आपस में जोड़ने का था एडवांस रिसर्च प्रोजेक्ट एजेंसी नेटवर्क के द्वारा पहले किसी भी प्रकार का डाटा शेयर नहीं किया जाता था उस समय इसका इस्तेमाल पैकेट स्विचिंग तकनीकी के आधार पर किया जाता था और सबसे पहले इसका इस्तेमाल अमेरिका की डिफेंस विभाग में किया गया था।

 ताकि सिक्योरिटी के साथ अपना मैसेज एक जगह से दूसरी जगह आसानी से भेज सकें। इसके बाद अमेरिका के अलग-अलग यूनिवर्सिटी को एक साथ जोड़ने में मदद मिला और धीरे-धीरे इसका इस्तेमाल दुनिया के बड़े-बड़े कंपनी के द्वारा किया जाने लगा इसका नाम बदलकर इंटरनेट रखा गया जिसे आज हम लोग इंटरनेट के नाम से जानते हैं आज इसे LAN के नाम से भी जाना जाता है। 

सबसे पहला computer नेटवर्क कब और क्या था? 

विश्व का सबसे पहला कंप्यूटर में अकबर का नाम एडवांस सर्च प्रोजेक्ट एजेंसी नेटवर्क ( ARPANET) है जो 1960 के आसपास बनाया गया है इसके द्वारा सबसे पहला मैसेज 29 अक्टूबर 1969 को भेजा गया है। 

इन्हे भी पढ़े:- proxy server क्या है इसे कैसे इस्तेमाल किया जाता है? 

नेटवर्क के लिए कौन सा उपकरण का इस्तेमाल किया जाता है? 

Hub 

हम का इस्तेमाल उस जगह पर किया जाता है जहां नेटवर्क की बहुत सारे केवल होती है और जिस में नेटवर्क को जोड़ने के लिए बहुत सारे पोस्टर लगे हुए होते हैं इसमें बहुत सारे पोर्ट लगे हुए होते हैं और सभी के लिए एक अलग इंडिकेटर लाइट लगी होती है जब वोट से कंप्यूटर को कनेक्ट किया जाता है तब लाइट के द्वारा सिग्नल दिया जाता है अब के द्वारा कंप्यूटर को जोड़ना बहुत ही आसान होता है एक हब के द्वारा करीब 24 कंप्यूटर को आपस में जोड़ा जा सकता है इससे अधिक कंप्यूटर को जोड़ने के लिए अतिरिक्त हब का इस्तेमाल किया जाता है। 

Switch 

स्विच एक ऐसा कंप्यूटर नेटवर्क होता है जो विभिन्न प्रकार के कंप्यूटर को लोकल एरिया नेटवर्क के द्वारा जोड़ा जाता है स्विच का उपयोग हब के स्थान पर एडवांस रूप में किया जाता है। 

Router 

राउटर में डाटा को कहीं भी आसानी से भेज सकते हैं यह एक जंक्शन की तरह कार्य करता है बड़े-बड़े नेटवर्क में एक से अधिक रूट स्थापित होते हैं जिसके जरिए सूचनाएं आदान-प्रदान होती है राउटर्स का कार्य सूचना को गंतव्य स्थान तक सही सलामत पहुंचाने का होता है। 

Gateway 

Gateway network के द्वारा computer network मे किसी भी प्रकार के online payment करने से होता है जो की बहुत अधिक सुरक्षित होता है। 

Repeaters 

रिपीटर एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस होता है जो लो सिग्नल को प्राप्त करके उन्हें उच्च सिग्नल बनाकर वापस भेजता है और इस प्रकार के सिग्नल लंबी दूरियों को आसानी से पार कर जाता है इसका कार्य होता है कि जो कंप्यूटर पर कमजोर सिग्नल आ रहे हैं उसे रिपीटर्स के द्वारा हाय सिग्नल में बदल दिया जाता है इसका जरूरत उस समय होता है जब बहुत सारे कंप्यूटर लंबी केबल के द्वारा आपस में जुड़े हुए होते हैं तब यह डिवाइस किसी भी कंप्यूटर को low सिग्नल नहीं होने देता है। 

Routing switch 

राफ्टिंग स्विच एक प्रकार का राउटर का कार्य करता है यह किसी भी प्रकार के नेटवर्क को किसी भी प्रकार के कंप्यूटर तक भेजे जाने वाले सूचनाओं को पहचान कर उन्हें रास्ता दिखाने का कार्य करता है ताकि सही सलामत गंतव्य स्थान तक पहुंच सके। 

Bridge 

ब्रिज का इस्तेमाल छोटे ने वर्ग को आपस में जोड़ने के लिए किया जाता है इसका प्रयोग बड़े और व्यस्त नेटवर्क को छोटे-छोटे हिस्सों में बांटने का होता है व्यस्त नेटवर्क को यह तब विभाजित करता है जब नेटवर्क के एक बड़े हिस्से को अलग रखा जाता है। 

Modem 

मॉडर्न का कार्य एनालॉग सिगनल को डिजिटल सिगनल में ऑर्बिटल सिग्नल को एनालॉग सिगल में बदलने का होता है मॉडर्न हमेशा एक टेलीफोन लाइन और कंप्यूटर के बीच कार्य करता है डिजिटल सिग्नल को एनालॉग सिगनल में बदलने की प्रक्रिया को modulation कहते हैं। जबकि analog signal ko digital signal mein badalne ki prakriya ko de modulation कहते है। 

इन्हे भी पढ़े:- protocol क्या है protocol कितने प्रकार का होता है? 

Network कितने प्रकार के होते हैं?  

Computer network कई प्रकार के होते हैं जो नीचे लिखे कथनों में उल्लेखित है इसे पूरी तरह पढ़े 

Local area network 

लोकल एरिया नेटवर्क नाम से ही पता चल रहा है जब स्कूल कॉलेज कार्यालय इंस्टिट्यट फैक्ट्री इत्यादि जगह में कंप्यूटर को आपस में एक साथ जोड़ने का कार्य करता है उसे लोकल एरिया नेटवर्क कहते हैं। इसे एक दूसरे के साथ कनेक्ट करने के लिए इंटरनेट और वाईफाई टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है इसमें केवल के द्वारा एक दसरे के साथ कनेक्ट नहीं किया जाता है,

यह नेटवर्क बहुत ही fast होता है और प्राइवेट नेटवर्क होता है यह सबसे ज्यादा सुरक्षित और कम लागत मैं इसे इंस्टॉल किया जा सकता है। इसमें सभी कंप्यूटर लगभग 1 किलोमीटर के दायरे में आपस में जुड़े होते हैं और इसके द्वारा हम 1000 कंप्यूटर को आसानी से जोड़ सकते हैं इसे जोड़ने के लिए वायरलेस लोकल एरिया नेटवर्क का इस्तेमाल किया जाता है इसमें एक switch के द्वारा सभी कंप्यूटरों को आसानी से कनेक्ट किया जाता है। 

Wide area network

वाइड एरिया नेटवर्क सबसे बड़ा कंप्यूटर नेटवर्क होता है इसका दायरा सबसे बड़ा होता है यह कई प्रकार के लोकल एरिया नेटवर्क के साथ कनेक्ट रहते हैं इसके जरिए दुनिया भर के सभी कंप्यूटर कुछ ही सेकंड में आसानी से जुड़ सकते हैं इस नेटवर्क में बहुत सारे प्रोटोकॉल का इस्तेमाल किया जाता है,

और इसे जुड़ने के लिए छोटे-छोटे नेटवर्क का भी इस्तेमाल किया जाता है इसीलिए यह नेटवर्क दूसरे नेटवर्क के तुलना में काफी महंगा होता है। आजकल इसका इस्तेमाल शेयर मार्केट बैंकिंग फाइनेंस इंस्टीट्यूट इत्यादि बड़े-बड़े कार्यों के लिए किया जाता है। 

Personal area network

पर्सनल एरिया नेटवर्क एक प्राइवेट नेटवर्क होता है जिसके द्वारा आप अपने दोस्तों को और अपने लोगों आपस में जोड़ सकते हैं इसकी क्षमता बहुत ही कम दूरी पर उपस्थित कंप्यूटरों को जोड़ सकता है इसके साथ ही इसमें मोबाइल फोन वीडियो गेम इत्यादि के लिए जोड़ा जाता है जैसे हम अपने मोबाइल का हॉटस्पॉट ओपन करते हैं तो उसमें हम अपने पर्सनल लोगों को ही जोड़ सकते हैं ब्लूटूथ ओपन करते हैं तो उसमें हम अपने खास डिवाइस को कनेक्ट करते हैं। 

Home area network

होम एरिया नेटवर्क भी एक प्रकार का प्राइवेट नेटवर्क होता है जिसका इस्तेमाल हम अपने परिवार के सभी सदस्य तक ही सीमित होता है इस नेटवर्क का इस्तेमाल हम अपने घरों में वाईफाई केबल लगाकर अपने परिवार के सभी लोगों के मोबाइल लैपटॉप desktop printer स्पीकर इत्यादि को आपस में कनेक्ट कर सकते हैं। इस नेटवर्क के द्वारा हम अपने मोबाइल फोन को अपने घरों के अंदर कनेक्ट करके आसानी से इस्तेमाल कर सकते हैं जैसे ही हम अपने घर से बाहर निकलते हैं तो इसका कनेक्शन अपने आप बंद हो जाता है क्योंकि इसका रेंज 100 मीटर के दायरे के अंदर होता है। 

Campus area network

केंपस एरिया नेटवर्क का इस्तेमाल शैक्षिक संस्थानों तथा सैनी संस्थानों तथा कोई भी प्राइवेट संस्थान जिसका विस्तार एक सीमित दायरे के अंदर है केंपस एरिया नेटवर्क का इस्तेमाल किया जाता है इसे हम लोग छोटे मोटे तौर पर लोकल एरिया नेटवर्क भी कह सकते हैं। 

Metropolitan area network

जब बहुत प्रकार के लोकल एरिया नेटवर्क किसी शहर के अंदर एक दूसरे के साथ जुड़े रहते हैं तो इस प्रकार के नेटवर्क हो लोकल एरिया नेटवर्क के साथ-साथ मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क भी करते हैं इसमें डाटा ट्रांसफर की गति एक सौ एमबी प्रति सेकंड होता है यह बहुत महंगे होते हैं क्योंकि इसका केबल ऑप्टिकल फाइबर के द्वारा आपस में जुड़े रहते हैं इसका उदाहरण टेलीफोन लाइन केबल ऑपरेटर इत्यादि से समझ सकते हैं। 

इन्हे भी पढ़े:- link juice क्या है इसे कैसे बढ़ाएं? 

Network के लाभ advantage of network in Hindi

चलिए अब नेटवर्क के लाभ के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं के द्वारा हम किसी भी कंप्यूटर को आपस में जुड़ सकते हैं और कंप्यूटर पर किए गए कार्य को प्रिंटर के सहायता से आसानी से प्रिंट कर सकते हैं इसके द्वारा सूचनाओं का आदान-प्रदान बड़े ही तीव्र गति से होता है जिससे समय की बचत होती है बहुत ऐसे प्रकार के नेटवर्क जिसका इस्तेमाल सुरक्षा के मद्देनजर बहुत ही मजबूत होता है,

आजकल दुनिया में जितना भी इंटरनेट पर कार्य किया जा रहा है किसी न किसी प्रकार के नेटवर्क के द्वारा आपस में जुड़े हुए हैं किसी भी प्रकार के फाइलों को कंप्यूटर में आसानी से सेव करके रख सकते हैं और किसी कारणवश यदि आप हो जाता है तो दूसरे कंप्यूटर बैकअप के द्वारा आसानी से प्राप्त कर सकते हैं,

आजकल नेटवर्क छोटे-छोटे कार्य से लेकर बड़े-बड़े कार्य आसानी से हो रहा है पैसे ट्रांसफर से लेकर स्टॉक मार्केट तक इस प्रकार के द्वारा किया जा रहा है और बैंकिंग से लेकर आरबीआई तक इसी नेटवर्क के द्वारा कार्य कर रहे हैं वैज्ञानिक क्षेत्र में इसका विस्तार बहुत अधिक हो रहा है बड़े-बड़े स्पेस एजेंसी के द्वारा इस्तेमाल कर रहा है। 

 LAN, MAN, WAN में क्या अंतर है? 

लोकल एरिया नेटवर्क वाइड एरिया नेटवर्क और मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क में अंतर किस प्रकार है जो नीचे लिखे कथनों में उल्लेखित है। 

LAN vs MAN vs WAN 

लोकल एरिया नेटवर्क 2 से 3 किलोमीटर के दायरे के अंदर कार्य करता है जबकि मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क एक असीमित दूरी तक कार्य करता है। वही wide area network 1000 km तक दायरे के अंदर काम करता है। 

लोकल एरिया नेटवर्क के द्वारा डाटा ट्रांसफर करने की क्षमता 1000mb प्रति सेकंड होता है जबकि मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क के द्वारा 100 से लेकर 1000MB/s तक डाटा ट्रांसफर कर सकते वही wide area network के द्वारा 10- 100MB/s तक डाटा ट्रांसफर कर सकते हैं। 

लोकल एरिया नेटवर्क के द्वारा नेटवर्क स्थापित करने के लिए ट्विस्टेड पैर केबल फाइबर ऑप्टिकल cable, का इस्तेमाल किया जाता जबकि मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क के द्वारा twisted cable और fiber optical cable के द्वारा डाटा ट्रांसफर कर सकते हैं वही wide area network के द्वारा वायरलेस का इस्तेमाल किया जाता है। 

लोकल एरिया नेटवर्क के द्वारा अधिकतर डेस्कटॉप कंप्यूटर होते हैं जबकि मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क के द्वारा डेस्कटॉप और मिनी कंप्यूटर होते हैं वही वाइड एरिया नेटवर्क किसी भी प्रकार की कंप्यूटर हो सकते हैं। 

निष्कर्ष 

हमें उम्मीद है कि हमारी टीम द्वारा दिया गया जानकारी नेटवर्क क्या है नेटवर्क कितने प्रकार के होते हैं आपको बहुत पसंद आया होगा इससे संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी के लिए आप हमें कमेंट अवश्य करें इसे अधिक से अधिक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपने दोस्तों के बीच जरूर शेयर करें इसके साथ ही हमें यह अवश्य बताएं कि यह लेख आपको कैसा लगा ताकि हमें मोटिवेट मिल सके। 

Post a Comment