आइए आज हम इस पोस्ट में जानेंगे कि कंप्यूटर क्या है और इनकी क्या किया उपयोगिता और विशेषता हमारे दैनिक जीवन में  क्या है कंप्यूटर से संबंधित सभी डाटा को इस पोस्ट में जानने  की कोशिश करेंगे  तो चलिए बिना देर किए शुरू करते हैं कंप्यूटर किस प्रकार हमारे दैनिक जीवन में सभी कठिन कार्य को चंद मिनटों में आसान बनाती है और हमें आगे का रास्ता भी दिखाता है!


कंप्यूटर क्या है। What is computer


Computer kya hai : कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है


कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जिओ डाटा तथा निर्देशों को इनपुट के रूप में ग्रहण करता है उनका विश्लेषण करता है तथा आवश्यक परिणामों को निश्चित प्रारूप में आउटपुट के रूप में निर्गत करता है यह डाटा के भंडारण तथा तीव्र गति और त्रुटि रहित ढंग से उनके विश्लेषण का कार्य करता है डाटा तथ्यों और सूचनाओं का अव्यवस्थित संकलन है जिन्हें दो भागों में बांटा गया है या अंको का बना होता है जिसमें 0 से लेकर 9 तक के अंको का प्रयोग किया जाता है ,

इस तरह के डाटा पर हम अंकगणितीय क्रियाएं कर सकते हैं जैसे विद्यार्थियों का प्राप्तांक कर्मचारियों का वेतन कैलकुलेटर समस्या आदि कर सकते हैं चीन आत्मक डाटा इसमें अक्षरों को तथा चिन्हों का प्रयोग किया जाता है इसमें अंकगणितीय क्रियाएं नहीं की जा सकती पर इसकी तुलना की जा सकती है जैसे किसी कर्मचारियों का पता लगाना इसे ही कंप्यूटर कहते हैं आज के समय में कंप्यूटर का विस्तार अनेकों रुप से की जा रही है,

 कंप्यूटर एक वैश्विक समस्याओं को दूर करने में अहम भूमिका निभा रही है इसलिए कंप्यूटर को आज हर एक ऑफिस में लगाया जा रहा है जिसमें सभी कर्मचारियों के काम का जल्द से जल्द आउटपुट देखने को मिल रहा है कंप्यूटर हमारे सभी कठिन कार्यों को चंद मिनटों में सॉल्व करने में सक्षम है इसलिए इसका प्रयोग छोटे से छोटे कर्मचारी से लेकर बड़े से बड़े व्यापारियों के लिए समस्याओं को निवारण करने के लिए महत्वपूर्ण साधन है।




कंप्यूटर का फुल फॉर्म क्या है।   What is computer full form

C Calculation (गणना) 

O operative ( क्रियाशील)

M machines (यांत्रिकी)

P processing ( प्रक्रिया)

U useful ( उपयोगी)

T technical (शब्दकोश)

E education (शिक्षा)

R research (अनुसंधान)

कंप्यूटर का हिंदी नाम क्या है ?

कंप्यूटर का हिंदी नाम संगणक होता है जिसका अर्थ है ऐसा यंत्र जो गणना करने में पूरी तरह से सक्षम हो हर तरह के कैलकुलेटिंग समस्या को मिनटों में दूर करने में सक्षम हुआ। 

कंप्यूटर के पार्ट हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर 

कंप्यूटर के पार्ट सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर यह प्रोग्राम के समूचे को जो कंप्यूटर के विभिन्न कार्यों के लिए सफल क्रियान्वयन के लिए उत्तरदाई होता है आसान शब्दों में कंप्यूटर हार्डवेयर एक फिजिकल ड्राइव होता है जिसे हम उसके पार्ट्स को गिनती कर सकते हैं कंप्यूटर हार्डवेयर कंप्यूटर के अंदर का विभिन्न पार्ट्स का एडिट भी कर सकते है । 

और सॉफ्टवेयर का मतलब तो आप जानते ही हैं सॉफ्टवेयर का मतलब कंप्यूटर के इंटरनेट से चलने वाले एप्स को कहते हैं आसान शब्दों में जैसे अगर किसी कंप्यूटर का वाईफाई कनेक्ट नहीं हो पा रहा है या कोई भी काम करने में आपको टेक्निकल इयर दिखाई दे रहा है इसे सॉफ्टवेयर प्रॉब्लम कहते हैं। 


कंप्यूटर की बेसिक या आधारभूत संरचना

कंप्यूटर छोटा हो या बड़ा चाहे नया हो या पुराना इसके मुख्य 4 भाग होते हैं/

1 इनपुट यूनिट 

डाटा प्रोग्राम अनुदेश और निर्देश को कंप्यूटर में डालने के लिए प्रयोग की जाने वाली विद्युत यांत्रिकी युक्ति को इनपुट डिवाइस कहते हैं  कंप्यूटर के बाइनरी  संकेतों को समझ सकता है अतः सभी इनपुट डिवाइस इंटरफस की मदद से इसे बाइनरी संख्या में बदलते हैं 

कुछ प्रमुख इनपुट डिवाइस इस प्रकार है

कीबोर्ड 

माउस 

जॉय स्टिक 

प्रकाशीय पेन 

स्केनर 

बारकोड रीडर 

मायका 

पंच कार्ड रीडर 

ऑप्टिकल मार्क रीडर 

ऑप्टिकल कैरक्टर रीडर 

माइक स्पीच रिकॉग्निशन सिस्टम

2 आउटपुट यूनिट 

आउटपुट कंप्यूटर द्वारा प्रोसेस किए गए परिणामों को प्राप्त करने के लिए प्रयुक्त युक्ति है या कंप्यूटर को उपयोगकर्ता के साथ जोड़ता है चुकी कंप्यूटर से प्राप्त परिणाम बायनरी संकेतों में होते हैं अतः इन्हें आउटपुट इंटरफ़ेस द्वारा सामान्यतः संकेतों में परिवर्तित किया जाता है  

कुछ प्रमुख आउटपुट डिवाइस इस प्रकार है 

कार्ड रीडर 

टेप रीडर

 मॉनिटर

 प्रिंटर 

 प्लॉटर 

स्पीकर 

3 सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट 

Computer kya hai : कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है

सीपीयू का फुल फॉर्म सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट होता है कंप्यूटर पर जो भी काम किए जाते हैं CPU में ही किया जाता है इसे ही computerका मस्तिष्क भी कहा जाता है इसका काम है किसी व्यक्ति द्वारा दिए गए आदेशों को समझ कर उसका ठीक-ठीक पालन करना जोड़ना घटाना अंकगणितीय क्रियाएं दो संख्याओं की तुलना करना या किसी विशेष बात की जांच करना आदिश का काम है इसे ही सीपीयू का आ जाता है सीपीयू कंप्यूटर का सबसे अहम पार्ट होता है इसके बिना कंप्यूटर को हम कंप्यूटर नहीं कर सकते। 

 4 मेमोरी 

मेमोरी डाटा और अनुदेशकों को प्रोसेस करने से पहले इसमें रखा जाता है प्रोसेस द्वारा प्राप्त अंतरिम और अंतिम परिणामों को भी मेमोरी में रखा जाता है इसे ही हम मेमोरी कहते हैं कोई भी डाटा को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के लिए किया गया कार्य को मेमोरी कहते हैं यदि आपका कंप्यूटर क्रैश होने वाला है तो आप उस के डाटा को सुरक्षित रखने के लिए मेमोरी में सेव कर सकते हैं और फिर इसे इस्तेमाल कर सकते हैं। 

मेमोरी दो प्रकार के होते हैं। 

प्राथमिक या मख्य मेमोरी

 यह कंप्यूटर सिस्टम यूनिट के अंदर स्थित इलेक्ट्रॉनिक मेमोरी है इसकी स्मृति क्षमता कम जब की गति तीव्र होती है इसमें व स्थाई निर्देशों और तात्कालिक परिणामों को संग्रहित किया जाता है या अस्थाई मेमोरी है जिसमें कंप्यूटर को ऑफ कर देने पर सूचना भी समाप्त हो जाता है  ।

द्वितीय या  सहायक मेमोरी 

यह कंप्यूटर में स्थाई मेमोरी होता है जिसे जिसमें विद्युत उपलब्ध ना होने पर भी सूचनाओं का ह्रास नहीं होता है यह मुख्यतः चुंबकीय डिस्क या ऑप्टिकल डिस्क का बना होता है बड़ी मात्रा में सूचनाओं को इक्कट्ठा किया जाता है /

कंप्यूटर का इतिहास

कंप्यूटर के विकास का वर्गीकरण 

हार्डवेयर उपयोग के आधार पर 

पहली पीढ़ी

 दूसरी पीढ़ी

 तीसरी पीढ़ी 

चौथी पीढ़ी 

पांचवी पीढ़ी 

आकार और कार्य के आधार पर 

मेनफ्रेम कंप्यूटर 

मिनी कंप्यूटर 

माइक्रो कंप्यूटर 

सुपर कंप्यूटर 

कार्य पद्धति के आधार पर 

एनालॉग डिजिटल हाइब्रिड 

दैनिक जीवन में कंप्यूटर उपयोग करने का तरीका

डेस्कटॉप कंप्यूटर         

लैपटॉप कंप्यूट 

 टेबलेट कंप्यूटर 

स्मार्टफोन का मीटर 

कंप्यूटर की पीढ़ियां या इतिहास

कंप्यूटर का पहला पीढ़ी 

 पीढ़ी 1940 से 1955 के बीच के समय को कहा जाता है इसके मुख्य कंपोनेंट्स सरक्युत्री के लिए वेक्यूम ट्यूबस इलेक्ट्रॉनिक बल्ब । इसके ऑपरेटिंग भाषा सिस्टम लोवेस्ट लेबल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है इसके कुछ कंप्यूटर इस प्रकार है

ENIAK 

EDSAC

EDVAC

UNIVAC

कंप्यूटर के दूसरा  पीढ़ी 

कंप्यूटर के दूसरा पीढ़ी 1956 से लेकर के 1963 के बीच आता है इसका आविष्कार ट्रांसिस्टर 1947 में किया था इसके मुख्य कंपोनेंट्स मैग्नेटिक कोर्स  तथा मैग्नेटिक टिप्स है इसके ऑपरेटिंग सिस्टम भाषा असेंबली लैंग्वेज हाई  लोकल लैंग्वेज जैसे FORT RAN . COBOL इसके कुछ कम्प्यूटर इस प्रकार है 

IBM 700/ 1401

IBM 7030

कंप्यूटर के तृतीय पीढ़ी

कंप्यूटर के तृतीय पीढ़ी 1964 ए1971 के बीच को कहा जाता है इसमें सेंटीग्रेड सर्किट सेमीकंडक्टर का उपयोग किया जाता है इसके मुख्य मेमोरी एलिमेंट्स RAM. DISK होता है इसका ऑपरेटिंग भाषा LINUX ALGOL ,C++ , JAVA, SQL होता है इस कम्प्यूटर के कुछ उदाहरण 

CDC 6600/

760 IBM 360, 

IBM 370 

CRAY - 1 

कंप्यूटर के चतुर्थ पीढ़ी

कंप्यूटर के चतुर्थ पीढ़ी 1972 से अब तक इसमें मुख्य कंपोनेंट्स LSI( Large scale intergration ) VLSI ( very large Scale intergration) होता है । उसका मेमोरी एलिमेंट सभी प्राइमरी तथा सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइसेज होता है इसके ऑपरेटिंग भाषा सिस्टम window SQL ,DOS, ORACLE , LINUX होता है इस कम्प्यूटर के कुछ उदाहरण 

All PC's Desktop, 

Crayx-MP 

पांचवी पीढ़ी के कंप्यूटर

पांचवी पीढ़ी के कंप्यूटर डेवलपमेंट फेज कृत्रिम ज्ञान रोबोटिक्स तथा नैनोटक्नोलॉजी और नए कंप्यूटर में कृत्रिम ज्ञान क्षमता डालने का प्रयास चल रहा है। अगली पीढ़ी के कंप्यूटर नैनो कंप्यूटर जिसका व्यास एक नैनोमीटर तक हो सकता है इसके प्रयोग से अत्यंत छोटे एवं विशाल क्षमता वाले कम कर के विकास की परिकल्पना की गई है,

 क्वांटम कंप्यूटर विद्युतीय किरणों में उर्जा इलेक्ट्रॉन की उपस्थिति के कारण होती है या अपने कक्ष के में तेजी से भ्रमण करते हैं इसका कारण या एक पथ एक और जीरो की स्थिति में गिना जा सकता है इस क्षमता का इस्तेमाल कर मानव मस्तिष्क से भी तेज कार्य करने वाले कंप्यूटर के विकास का प्रयास चल रहा है ।


कंप्यूटर का नेटवर्क कैसे काम करता है।

 कम्प्यूटर कई प्रकार के लोकल एरिया नेटवर्क का इस्तेमाल करता है तथा इसका नेटवर्क इतना बड़ा है और दिन प्रतिदिन बढ़ाया जा रहा है कंप्यूटर के नेटवर्क में किसी तरह का रुकावट शायद कभी-कभी ही देखने को मिलता है लोकल एरिया नेटवर्क एक निश्चित और छोटे भौगोलिक क्षेत्र लगभग 1 किलोमीटर में आपस में जुड़े कंप्यूटर का जाल लोकल एरिया नेटवर्क काल आता है,

 या किसी एक ऑफिस फैक्ट्री या विश्वविद्यालय कैंपस में कुछ क्षेत्रों तक ही फैला रहता है इसका आकार छोटा डाटा स्थानांतरण की गति तेज तथा त्रुटियां कम होती है इथरनेट एक लोकप्रिय LAN है LAN मे कंप्यूटरों को जोड़ने के लिए बस टोपोलॉजी तथा को एक सिंगल केबल का उपयोग किया जाता है इसमें रखरखाव बहुत ही आसान होता है

मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क (METRO POLITAN AREA NETWORK ) 

यह किसी लवली क्षेत्र लगभग एक 100 किलोमीटर निश्चित कंप्यूटरों का नेटवर्क है इसका उपयोग एक ही शहर में स्थित निजी कंप्यूटर या सार्वजनिक कंप्यूटर को जोड़ने में किया जाता है 

INTERNET इंटरनेट 

इंटरनेट दुनिया भर में फैले हुए छोटे बड़े कंप्यूटरों का एक बड़ा जाल होता है जो टेलीफोन के माध्यम से एक दसरे के संपर्क में रहता है इसमें मुख्यता ईमेल WWW FTP E COMMERCE आदि सुविधाएं उपलब्ध रहता है इंटरनेट कंप्यूटरों को कंप्यूटरों को जोड़ता है और वर्ल्ड वाइफ वेब उससे जुड़े कंप्यूटरों को सूचना वेब पेजों के माध्यम से उपलब्ध कराता है इस कार्य में इंटरनेट एक्सप्लोरर किसी ब्राउज़र प्रोग्राम की सहायता से कार्य करता है।

गति मॉडेम की गति 

कंप्यूटर नेटवर्क जिस गति से आप सूचना टेलीफोन लाइनों के द्वारा भेजने या प्राप्त करेंगे वह भी मॉडर्न द्वारा ही निर्धारित होता है टेलीफोन लाइनें इंटरनेट पर सूचना टेलीफोन लाइन द्वारा ही प्रेरित की जाती है या टेलीफोन लाइनें वैसे ही होती है जैसे हमारे घरों में प्रयुक्त होती है टेलीफोन लाइनें के अलावा इंटरनेट पर सूचना आदान-प्रदान हेतु अन्य तीव्र गति वाले कनेक्शंस का भी प्रयोग किया जाता है इन तीनों का यही काम है कि इससे आपकी टेलीफोन लाइन बाधित नहीं होगा । 

ISDN : -

INTEGRATED SERVICE DIGITAL NETWORK DATA के डिजिटल ट्रांसमिशन के लिए एक स्टैंडर्ड सेट है जो टेलीफोन कंपनियों द्वारा दिया जाता है यह केवल मॉडर्न के जरिया आप इंटरनेट से वैसे ही जुड़ सकते हैं जैसे कि केवल के द्वारा आप केबल टीवी नेटवर्क से जोड़ते हैं या केवल मॉडर्न 3000 केबीपीएस की गति से सूचना संपर्क कर सकता है आपका स्थानीय केबल ऑपरेटर या सुविधा प्रदान कर सकता है।

DSL ;-

डीएसएल एक डिजिटल सब्सक्राइबर लाइन काफी नाजुक तकनीकों का इस्तेमाल कर कई बाइट ओं की संख्या को टेलीफोन कंपनियों द्वारा प्रदत्त ट्विस्टेड पैर केबल डिजिटल लाइन सर्विस द्वारा करती है डीएसएल आईएसडीएन लाइनों के मुकाबले में कुछ तेजी से ट्रांसफर दरों को प्रदान करती है इसलिए वह थोड़ा महंगी भी होती है।

INTER NET SERVICE PROVIDER 

इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर एक कंपनी है जो आपकी इंटरनेट तक पहुंच कर पैसे लेकर प्रदान करती है ऐसे कई सर्विस प्रोवाइडर है जो विभिन्न प्रकार की सेवाओं एवं लाभ अलग-अलग कीमत पर प्रदान करते हैं इलेक्ट्रॉनिक ई-कॉमर्स इसको ई-कॉमर्स भी करते हैं या वित्तीय बिजनेस ट्रांजैक्शन का जरिया है जो किसी इलेक्ट्रॉनिक नेटवर्क जैसे इंटरनेट पर किया जाता है/


COMPUTER के वायरस 

Computer kya hai : कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है

कम्प्यूटर VIRUS एक जानबूझकर लिखा गया या बनाया गया प्रोग्राम है जो कंप्यूटर के डाटा को क्षतिग्रस्त करता है कंप्यूटर वायरस स्वयं को कंप्यूटर के बूट से जोड़ लेता है कंप्यूटर जितनी बार बूट करता है वायरस उतना ही अधिक फैलता है कई वायरस काफी समय पश्चात भी डाटा एवं प्रोग्रामों को नुकसान पहुंचा सकने में काफी तरह से सक्षम होता है वायरस को मुख्यतः तीन भागों में बांटा गया है

प्रोग्राम VIRUS 

बूट वायरस 

मल्टीपार्टाइट 🦠 वायरस

भारत में विकसित सुपर कंप्यूटर 

सुपर कंप्यूटर                  उत्पादन करने वाला कंप्यूटर संस्थान

फ्लोसॉल्वर एमके 3          राष्ट्रीय बेईमानीकी प्रयोगशाला बंगलुरु 

पेस                                 एडवांस न्यूमेरिकल रिसर्च एंड एनालिसिस ग्रुप हैदराबाद 

टेरा फ्लॉप                        भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र

 मल्टी माइक्रो                   भारतीय विज्ञान संस्थान बेंगलुरु

 मांख                              भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मुंबई 

परम                               सेंटर फॉर डेवलपमेंट आफ एडवांस्ड कंप्यूटिंग सीडैक पुणे 

परम 10,000                   सीडैक पुणे 

परम                               आनंद सीडैक पुणे 

एका                               सीआरएल पुणे 


COMPUTER लैंग्वेज (कम्प्यूटर का भाषा)

Computer kya hai : कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है

बेसिक ( BASIC) : - 

Beginner's all purpose symbolic इंस्ट्रक्शन कोड यह एक सरल और उपयोगी उच्च स्तरीय कंप्यूटर भाषा है।

बाइनरी ( Binary) :

 कंप्यूटर की सभी घटनाओं में प्रयुक्त संख्या प्रणाली जिसमें केवल 2 अंक 0  और 1 होता है। 

बिट ( bit) : 

बायनरी इकाई के आरंभिक एवं अंतिम अक्षरों से बने संक्षिप्त शब्द 0 से एक को विट कहा जाता है। 

बाइट ( byte) ; 

कंप्यूटर क्रियाओं में सामूहिक रूप से भाग लेने वाले दुधारी अंक इस प्रकार 8 bito से बनने वाले अक्षरों को वाइट कहा जाता है। 

1kB 1024 byte तथा 1048576 बाइटो 1 मेगा बाइट MB होता है । 

कंप्यूटर का माप 

4 बिट्स = निब्बल 

8 बिट्स = 1 बाइट 

1KB Kilobyte 1024 बाइट्स Bytes 

1 MB Megabyte 1024 KB Kilo byte

1 GB Gegabyte 1024 MB Megabyte 

1TB Terabyte  1024 GB Gegabyte

1 PB Petabyte 1024 TB Terabyte 

1 EB Exabyte  1024 PB petabyte

1 ZB Zettabye  1024 EB Exabyte 

1 YB Yottabyte  1024 ZB Zettabyte

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया । 

Computer kya hai : कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है

कंप्यूटर का आविष्कार सबसे पहले यांत्रिक कैलकुलेटर के रूप में हुआ यांत्रिक कैलकुलेटर का उद्गम दो गणितज्ञ ब्लेज पास्कल 1623-1662 और गॉट फ्रीड विल्हेम लेबिंज ने 1646 - 1716 के कार्यकाल में खोजा गया था 

लेकिन चार्ल्स बैबेज (1792 - 1871 ) ने जॉन नेपियर1550 से 1617 द्वारा खोजे गए लघुगणक अंक को समाहित कर सकने वाली कैलकुलेटिंग मशीन बनाने का विचार किया था तब जाकर कंप्यूटर के क्षेत्र में चार्ल्स बैबेज को सफलता मिली इसलिए उन्हें कंप्यूटर के जनक के रूप में जाना जाता है चार्ल्स बैबेज को कंप्यूटर का पिता भी कहा जाता है।


कंप्यूटर कैसे कार्य करता है।

कम्प्यूटर लोकल एरिया नेटवर्क के द्वारा काम करता है तथा इसमें मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क और वाइड एरिया नेटवर्क के द्वारा काम करता है यह तीन नेटवर्क 1 किलोमीटर एक सौ किलोमीटर और संपूर्ण विश्व मैं फैले कंप्यूटरों का जाल है इसी के द्वारा कंप्यूटर पूरी तरह से कार्य करता है इस नेटवर्क में कभी-कभी error  का भी समस्या उत्पन्न ना हो जाता है।

कंप्यूटर के लाभ 

अगर आप ऊपर दिए गए शब्दों को अच्छी तरह से पड़ेंगे तो आपको पूरी तरह से इस बात का ज्ञान हो जाएगा की कंप्यूटर के क्या लाभ हैं कंप्यूटर के लाभ के बारे में हर कोई जानता है इसके बारे में क्या बताएं कंप्यूटर का लाभ बड़े से बड़े और छोटे से छोटे व्यापारी अपने कठिन कार्यों को चंद मिनटों में कर्मचारी के बिना सफल बना देते हैं /

कंप्यूटर के बिना जीवन व्यर्थ ही माना जाता है क्योंकि कंप्यूटर भविष्य में होने वाली घटनाओं के बारे में भी हम लोगों को अवगत कराने में सक्षम हैं कंप्यूटर से अनेक प्रकार के लाभ मिलते हैं जैसे समय का बचत कठिन कार्यों को करना चंद मिनटों में सूचना पहुंचना सूचनाओं का आदान प्रदान करना आदि बहुत सारे लाभ है जो आप भली-भांति इससे अवगत हैं।

कंप्यूटर के हानि 

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जिसका उपयोग आप जिस प्रकार करना चाहेंगे उस प्रकार आप आसानी से कर पाएंगे चाहे गलत हो या सही हो अगर आप इसका प्रयोग गलत तरीका से करेंगे तो आपको काफी नुकसान हो सकता है। जैसे 

Virus

Cyber crime 

Online fake transaction 

Employment mai कटौती 

मजदूरों पर प्रभाव 

Dublicate उत्पाद मे बढ़ावा 

Fake call I'd

Galat ज्ञान को प्रकाशित करना 

Privacy पर प्रभाव 

Computer के अन्य प्रकार 

आइए अभी जानते हैं कि कंप्यूटर के कौन-कौन प्रयोग दैनिक जीवन में उपयोग करते हैं ।

स्मार्टफोन ( smartphone ) : 

आज स्मार्टफोन के युग में सभी को कंप्यूटरों से जोड़ा जाता है सभी स्मार्टफोन धीरे धीरे कंप्यूटर बनता जा रहा है अब आप कंप्यूटर से भी फोन कॉल कर सकते हैं और कंप्यूटर का सारा कार्य स्मार्टफोन में भी कर सकते हैं।

पहनने वाले कम्प्यूटर : 

कंप्यूटर का एक रूप पहनने मे किया जाता है। जैसे गीत फिटनेस ट्रैक  स्मार्ट वॉच माप ट्रैकर्स रूट ट्रैकर्स आदि 

टीवी( tv) : 

टीवी का एक रूप कंप्यूटर भी है या कंप्यूटर का एक रुप टीवी ही है जिसमें हम कंप्यूटर के सारे सॉफ्टवेयर को इस्तेमाल कर सकते हैं जिसे स्मार्ट टीवी में परिवर्तित किया जा रहा है वही आप स्मार्ट टीवी में कंप्यूटर की तरह सभी कार्य आसानी से कर सकते हैं।

गेम कंट्रोल : 

गेम के बारे में कौन नहीं जानता गेम तो सभी खेलना पसंद करती हो यह भी एक विशेष प्रकार का कंप्यूटर है जिसका उपयोग टीवी गेम या फिर कंप्यूटर गेम मे करते है ।

Computer के कुछ विभिन्न पार्ट 

चिप ( chip) : - 

सिलिकॉन की एक पतली चिप  इस पर विशेष प्रक्रिया से इलेक्ट्रॉनिक सर्किट बनाए जाते हैं या अर्धचालक पदार्थ का वह छोटा सा टुकड़ा है इस पर इलेक्ट्रॉनिक सर्किट खुदा होता है सिलिकॉन जैसी किसी अर्धचालक सीट पर बना संपूर्ण इलेक्ट्रॉनिक सर्किट IC chip कहलाता है । इसका उपयोग कंप्यूटर रेडियो टेलिवजन तथा अन्य आधुनिक इलेक्ट्रॉनिक युक्तियों में किया जाता है। 

RAM रैम : - 

कंप्यूटर की मुख्य स्मृति जिसमें हर आस्थान का अलग पता होता है और उस पते का उल्लेख कर उसकी स्मृति स्थान में संक्षिप्त विवरण को प्राप्त किया जा सकता है इस कंप्यूटर स्मृति का उपयोग आंकड़ों तथा प्रोग्रामों के अल्पकालिक संग्रहण हेतु किया जाता है इसके डाटा को पढ़ा और सुधारा जा सकता है।

रोम ROM : -

 इसमें स्थाई रूप से रिकॉर्ड किया गया निर्देश को सेव किया जाता है जिसे पढ़ तो जा सकता है परंतु उसे सुधारा नहीं जा सकता है रोम कहलाता है ।

बायो चिप

 मॉडेम 

बायोनिक चिप

 ब्लूटूथ 

चित्रित कार्ड

 वायरलेस एप्लीकेशन प्रोटोकोल 

प्रकाशीय संकेत पर पहचान युक्ति 

 उत्तर पढ़ने वाली युक्त 

चित्र प्रदर्शक इकाई 

डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर 

इंकजेट प्रिंटर 

लेजर प्रिंटर

 सी प्लस प्लस 

जी यू आई 

हाइपर टेक्स्ट 

इंटरनेट 

एमपी ई जी 

Video mail 

Video card 

Autoanalizer 

Cache 

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल 

कम्प्यूटर का हिंदी नाम क्या है /

संगणक 

कम्प्यूटर कितने प्रकार के होते है ।

पांच 

कम्प्यूटर का आविष्कार कब हुआ ।

1946

कम्प्यूटर का अविष्कार किसने किया ।

चार्ल्स बेबेज 

भारत में कम्प्यूटर सबसे पहले कहा लगा था 

बंगलौर 

कम्प्यूटर का दिमाग किसे कहते है ।

सीपीयू central processing unit 

भारत का सबसे तेज कम्प्यूटर कौन सा है ।

Super computer 

भारत में निर्माण सबसे पहला कम्प्यूटर कौन सा है ।

सिद्धार्थ 

Read also :- paise kaise kamye hindi mai jaane 


Read also :- computer details generation in english

निष्कर्ष 

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा लिखा गया कंप्यूटर क्या है इसके बारे में आप लोगों को संपूर्ण जानकारी मिल गई होगी जितने आपके मन में प्रश्न है उम्मीद करता हूं कि वह सारे प्रश्न के उत्तर इस ब्लॉग में मिल गया होगा अगर आपका कोई सवाल है कंप्यूटर क्या है इसके बारे मे। या इस पोस्ट में कोई गलत शब्द दिखाई दे तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं।  हमारी टीम उस शब्द को सही तरीका से लिखने का कोशिश करेंगे।


3 Comments

Post a Comment